Yoga for stress relief

11 Easy Yoga for Stress relief in hindi

Spread the love

तनाव के लिए योग ( Yoga for stress relief )

विभिन्न परिस्थितियों में young peoples भावनाओ का अनुभव करते है। भावना सकारात्मक से नकारात्मक भिन्न हो सकते हैं जैसे खुशी, संतुष्टि, उदासी, क्रोध, हताशा आदि। लोगों और उनके आसपास के वातावरण द्वारा खुद से उच्च उम्मीदें और प्रबलित हो सकती हैं। इसलिये कई मौके आते हैं जब वे तनावग्रस्त हो सकते हैं या गुस्सा या निराश महसूस कर सकते हैं। इनके लिये yoga for stress relief कारगर साबीत हो सकते हैं।

Yoga for stress relief
Yoga for stress relief for young peoples

Young peoples के लिए सकारात्मक और नकारात्मक दोनों भावनाओं का अनुभव करना कुदरती हैं। इसके साथ ही, हर किसी को उसकी / उसके भावनाओं और उमंगे के बारे में जानकारी होना आवश्यक है। किसी की भावनाओं को व्यक्त करना भी स्वाभाविक है। लेकिन, सभी के लिए यह जानना भी आवश्यक है कि भावनाओं को व्यक्त करने के दोनों सकारात्मक और नकारात्मक तरीके हैं। किशोरों द्वारा अनुभव किए गए कुछ तनावों द्वारा यह बताया गया है कि नकारात्मक भावनाओं और नकारात्मक तरीके से उनकी अभिव्यक्ति का कारण हो सकता है।

आज के जीवन में, तनाव के संबंधित समस्याएं कई स्वास्थ्य का प्रमुख कारण बनता जा रहा है। यह एक ज्ञात तथ्य है कि तनाव स्वास्थ्य को नकारात्मक रूप से प्रभावित करता है। तनाव के प्रबंधन में, जीवनशैली एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है जैसे की खाने, काम करने, नींद और वे सभी चीजें जो किसी के स्वास्थ्य और जीवन को प्रभावित करती हैं।

दूसरे शब्दों में, जीवन शैली का अर्थ है किसी की भोजन की आदतें, मनोरंजन, सोच और उसकी / उसके दिन भर की गतिविधियाँ। एक स्वस्थ जीवनशैली तनाव को कम करती है और किसी के स्वास्थ्य को बढ़ावा देती है। यह पहचानना महत्वपूर्ण है कि तनाव एक ऐसी चीज है जो नियंत्रित और निश्चित रूप से कम टैकल हो सकती है। कई बार, हम उन स्थितियों के नियंत्रण में है जो तनाव का कारण बनती हैं लेकिन हम ऐसी किसी भी स्थिति के लिए अपनी ओवर ऑल प्रतिक्रिया को नियंत्रित कर सकते हैं।

तनाव क्या है? ( Undersrand What is Stress before we know yoga for stress relief )

तनाव को शरीर की प्रतिक्रियाओं के रूप में समझा जा सकता है जो इसमें कठिन स्थितियां घटित होती है। इन स्थितियों को व्यक्ति द्वारा उसकी / उसकी शारीरिक या भावनात्मक भलाई के लिए खतरा माना जाता है। यह वास्तविक या काल्पनिक खतरा हो सकता है। इन स्थितियों के प्रति प्रतिक्रियाएँ शारीरिक स्तर पर होती हैं और मनोवैज्ञानिक स्तर होती हैं। शारीरिक स्तर पर, वहाँ हृदय गति, नाड़ी दर, रक्तचाप, स्राव में परिवर्तन हो सकते है और मनोवैज्ञानिक स्तर पर, परिवर्तन हो सकते हैं जैसे ध्यान, एकाग्रता, स्मृति और सतर्कता में और भावनात्मक स्थिति (जैसे क्रोध, भय, घृणा, उदासी, आदि)।

तनाव आमतौर पर जीवन में होने वाली बड़ी घटनाओं के परिणामस्वरूप होता है जैसे की कड़ी प्रतिस्पर्धा, एक परीक्षा में कम अंक प्राप्त करना, हाल ही में दोस्ती में ब्रेक, अच्छी नौकरी नहीं मिलने से, दूसरों से झगड़ा करना आदि। कई अन्य कारक हैं जो किसी व्यक्ति में तनाव का कारण हो सकते हैं जैसे बीमारियाँ, रहने की स्थिति, गरीबी, रिश्ते में समस्याएँ, किशोरावस्था की चुनौतियां, गलत आदतें, उच्च आकांक्षाएं, अवास्तविक लक्ष्य, करीबी रिश्तेदार की मौत, कड़ी प्रतिस्पर्धा, भेदभाव, तेज बदलते जीवन और कई अन्य।

हालांकि, कभी-कभी यह भी हो सकता है की छोटी समस्याओं जैसे जल्दी उठना, समय पर तैयार न होना, स्कूल में देरी से पहुंचना, मनपसंद खाना नहीं मिलना, एक दोस्त के साथ तर्क से रहना, रात की पार्टी वगैरह से देर से उपस्थित होने के लिए माता-पिता से अनुमति नहीं लेना। तनाव की तीव्रता व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति और आम तौर पर भिन्न होती है और उस व्यक्ति द्वारा विशेष स्थिति की धारणा पर निर्भर करता है। दूसरे के लिए बड़ी चुनौती की स्थिति एक व्यक्ति के लिए संभालना आसान हो सकता है, जब यह एक मुद्रा बना सकता है।

उदाहरण के लिए, एक छात्र के लिये परीक्षा तनाव का कारण हो सकती है जबकि यह दूसरे छात्र को प्रभावित नहीं कर सकता है। तनाव लोगो के लिये हानिकारक भी हो सकता है या हमें बेहतर प्रदर्शन करने और नए कौशल सीखने के लिए फायदेमंद भी हो सकता है।

उदाहरण के लिए, एक नए पाठ्यक्रम में प्रवेश प्राप्त करना, परीक्षा की तैयारी करना या promotion मिलने से तनाव हो सकता है लेकिन यह तनाव इसके लिए फायदेमंद है। अंत में विकास और विकास की दिशा में योगदान देता है। जब तनाव गंभीर और पुराना होता है तो यह नकारात्मक रूप से होता है और किसी व्यक्ति की कार्यक्षमता को प्रभावित करता है। यह हमारी महसूस करने की क्षमता जैसे की सोचना और कार्य करना इसपर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है।

गंभीर तनाव के दौरान, एक व्यक्ति बेचैन और चिंतित हो सकता है। वह चीजों को ठीक से याद नहीं कर सकता है। छोटी-छोटी बातें भी उसे गुस्सा दिला सकती है।आपने भी देखा होगा कि जब आप तनाव में हैं तब आप बेचैन हो जाते हैं। आप ध्यान केंद्रित करने में सक्षम नहीं हो सकते हैं आपकी पढ़ाई और छोटी-छोटी बातों से आपके अंदर जलन पैदा हो सकती है। पुराने और गंभीर तनाव से हमारे शरीर की रोगों से लड़ने की क्षमता कम हो जाती है। यह विभिन्न मनोदैहिक रोगों को जन्म दे सकता है जैसे कि पेप्टिक अल्सर, माइग्रेन, मधुमेह मेलेटस, उच्च रक्तचाप आदि। इससे हार्ट अटैक, ब्रेन स्ट्रोक और मौत भी हो सकती है। गंभीर तनाव से कई मनोवैज्ञानिक विकार हो सकते हैं जैसे की चिंता के दौरे और अवसाद जैसे परिणाम। हालांकि, तथ्य यह है – हम
तनाव से बच नहीं सकते। इसलिए, yoga for stress relief आवश्यक हैं।

Yoga for stress relief को रामबाण माना गया है। इस संदर्भ में, हम स्वस्थ जीवनशैली विकसित करने में योग की भूमिका पर चर्चा करेंगे। योग अभ्यास से तनाव को प्रबंधित manage किया जा सकता है। योग अभ्यास जीवन का एक तरीका बन सकता है और तनाव manage करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता हैं।

तनाव प्रबंधन ( Yoga for stress relief management ) के लिए योगिक अभ्यास

Yoga for stress relief
Yoga for stress relief management

Yoga for stress relief management के लिये हमें उन प्रथाओं को करना चाहिए जो हमारे शरीर और दिमाग को आराम दें सकती हैं। जैसे की भारत के इतिहास मे कयी सालो से योगा प्रॅक्टिस और मेडिटेशन किया जाता है यहाँ, कुछ आसन, प्राणायाम, क्रिया और आराम अभ्यास जो तनाव प्रबंधन में सहायक हैं, नीचे दिए गए हैं।

  1. हस्तोत्तानासन (ऊपर फैला हुआ आसन) (Hastottanasana – Up-Stretched Arms Posture)
  2. पादहस्तासन (Padahastasana)
  3. त्रिकोणासन (त्रिकोण आसन) (Trikonasana – Triangle Posture)
  4. शशांकासन (हरे आसन) (Shashankasana – Hare Posture)
  5. उष्ट्रासन (ऊंट आसन) (Ushtrasana – Camel Posture)
  6. अर्धमत्स्येन्द्रासन (आधा स्पाइनल ट्विस्ट) (Ardhamatsyendrasana – Half Spinal Twist)
  7. भुजंगासन (Bhujangasana – Cobra Pose)
  8. मकराना (मगरमच्छ आसन) (Makarasana – Crocodile Posture)
  9. सर्वांगासन (कंधे खड़े आसन) (Sarvangasana – Shoulder Stand Posture)
  10. मत्स्यसन (मछली का आसन) (Matsyasana (Fish Posture)
  11. शवासन (शव आसन) (Shavasana – Corpse Posture)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *